Mai Dil Ka Raaz Kehta Hu Lyrics

Song Details: Mai Dil Ka Raaz Kehta Hu Lyrics are written by Rajat Arora with music given by Javed Bashir. The song name is Ye Tune Kya Kiya which is sung by Javed Bashir


Mai Dil Ka Raaz Kehta Hu Lyrics

Ishq woh bala hai
Ishq woh bala hai..
Jisko chhuaa isne woh jala hai
Dil se hota hai shuru
Dil se hota hai shuru..
Par kambakht sar pe chadha hai
Kabhi khud se, kabhi khuda se
Kabhi zamaane se lada hai
Itna huaa badnaam phir bhi
Har zubaan pe adda hai

Ishq ki, saazishein
Ishq ki, baaziyaan..
Haara main khel ke
Do dilon ka juaa

Kyun tune meri fursat ki
Kyun dil mein itni harkat ki
Ishq mein itni barkat ki
Ye tune kya kiyaa..

Phiru ab maara maara main
Chaand se bichhda taara main
Dil se itna kyun haara main
Ye tune kya kiyaa..

Saari duniya se jeet ke
Main aaya hoon idhar
Tere aage hi main haara
Kiya tune kya asar

Main dil ka raaz kehta hoon
Ke jab jab saansein leta hoon
Tera hi naam leta hoon
Ye tune kya kiya..

Meri baahon ko teri saanson ki jo
Aadatein lagi hain waisi
Jee leta hoon abb main thoda aur

Meri dil ki ret pe
Aankhon ki jo pade parchhai teri
Pee leta hoon tab main thoda aur

Jaane kaun hai tu meri
Main naa jaanu ye magar
Jahaan jaaun main
Karoon main wahaan tera hi zikkar

Mujhe tu raazi lagti hai
Jeeti hui baazi lagti hai
Tabiyat taazi lagti hai
Ye tune kya kiya..

Main dil ka raaz kehta hoon
Ke jab jab saansein leta hoon
Tera hi naam leta hoon
Ye tune kya kiya..

Dil karta hai, teri baatein sunu
Saude main adhure chunu
Muft ka hua ye faayda
Kyun khud ko main barbaad karun
Fanaa hoke tujhse miloon
Ishq ka ajab hai qaayda

Teri raahon se jo
Guzri hain meri dagar
Main bhi aage badh gaya hoon
Hoke thoda befikar

Kaho toh, kis se marzi loon
Kaho toh, kis ko arzi doon
Hansta ab thoda farzi hoon
Ye tune kya kiya..

Main dil ka raaz kehta hoon
Ke jab jab saansein leta hoon
Ishq ki, saazishein
Ishq ki, baaziyaan
Haara main khel ke
Do dilon ka juaa…

Lyrics Written By: Rajat Arora

Mai Dil Ka Raaz Kehta Hu Lyrics In Hindi

इश्क़ वह बला है
इश्क़ वह बला है
जिसको छुआ
इसने वह जला है
दिल से होता है शुरू
दिल से होता है शुरू
पर कमबख्त
सर पे चढ़ा है
कभी खुद से कभी खुदा से
कभी ज़माने से लड़ा है
इतना हुआ बदनाम फिर भी
हर जुबां पे ऐडा है

इश्क़ की साज़िशें
इश्क़ की बाज़ियां
हारा मैं खेल के
दो दिलों का जुआ

क्यों तूने मेरी फुर्सत की
क्यों दिल में इतनी हरक़त की
इश्क़ में इतनी बरकत की
ये तूने क्या किया

फिरू अब मारा मारा मैं
चाँद से बिछड़ा तारा मैं
दिल से इतना क्यों हारा मैं
ये तूने क्या किया

सारी दुनिया से जीत के
मैं आया हूँ इधर
तेरे आगे ही मैं हारा
किया तूने क्या असर

मैं दिल का राज़ कहता हूँ
के जब जब सांसें लेता हूँ
तेरा ही नाम लेता हूँ
ये तूने क्या किया

मेरी बाहों को
तेरी साँसों की जो
आदतें लगी हैं वैसी
जी लेता हूँ अब
मैं थोड़ा और

मेरी दिल की रेत पे
आँखों की जो
पड़े परछाई तेरी
पी लेता हूँ तब
मैं थोड़ा और

जाने कौन है तू मेरी
मैं ना जानू ये मगर
जहां जाऊं मैं
करून मैं वहाँ
तेरा ही ज़िक्र

मुझे तू राज़ी लगती है
जीती हुई बाज़ी लगती है
तबियत ताज़ी लगती है
ये तूने क्या किया

मैं दिल का राज़ कहता हूँ
के जब जब सांसें लेता हूँ
तेरा ही नाम लेता हूँ
ये तूने क्या किया

दिल करता है तेरी बातें सुनु
सौदे में अधूरे चुनु
मुफ्त का हुआ ये फायदा
क्यों खुद को मैं
बर्बाद करून
फ़ना होक तुंहसे मिलूं
इश्क़ का अजब है क़ायदा
तेरी राहों से जो
गुज़री हैं मेरी डगर
मैं आगे बढ़ गया हूँ
थोड़ा होक बे फ़िक्र

कहो तोह किस से मर्ज़ी लून
कहो तोह किस को अर्ज़ी दूँ
हँसता अब थोड़ा फ़र्ज़ी हूँ
ये तूने क्या किया
मैं दिल का राज़ कहता हूँ
के जब जब सांसें लेता हूँ

इश्क़ की साज़िशें
इश्क़ की बाज़ियां
हारा मैं खेल के
दो दिलों का जुआ.

Music Video

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *